अब पैन कार्ड नहीं बना पाएगी अलंकित लिमिटेड, एनएसडीएल ई-गवर्नेंस ने खत्म की साझेदारी

  • पैन का आवेदन शुल्क नहीं भेजने पर खत्म की साझेदारी
  • स्रोत पर कर कटौती का काम भी करती है अलंकित लिमिटेड

दैनिक भास्कर

Jun 06, 2020, 11:53 AM IST

नई दिल्ली. एनएसडीएल ई-गवर्नेंस इंफ्रास्ट्रक्चर ने शुक्रवार को कहा कि उसने अलंकित लिमिटेड के साथ अपनी साझेदारी खत्म कर दी है। अलंकित अब से एनएसडीएल की सेवाएं नहीं दे पाएगी। अलंकित, एनएसडील की सेवाओं के सुविधा केंद्र के तौर पर काम करने वाली कंपनी है। इसके तहत वह पैन कार्ड बनाने, स्रोत पर कर कटौती और कर संग्रह के ई-विवरण इत्यादि देने का काम करती है। 

अलंकित ने बकाया भुगतान न मिलने की बात कही

एनएसडीएल ने एक बयान में कहा कि अलंकित के साथ साझेदारी पैन आवेदन शुल्क को उसे नहीं भेजने के चलते समाप्त कर रही है। हालांकि, अलंकित लिमिटेड के प्रबंध निदेशक अंकित अग्रवाल ने कहा कि अलंकित ने एनएसडीएल के खिलाफ मध्यस्थता मामला शुरू किया था। इस संबंध में उसने बंबई उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। अब यह मामला मध्यस्थता अदालत में है और अलंकित को एनएसडीएल के पास लंबे समय से पड़े बकाया का भुगतान चाहिए।

अब आधार ई-केवाईसी से तुरंत मिलेगा पैन नंबर

अब आप ई-केवाईसी के जरिए आवेदन कर तुरंत पैन नंबर ले सकते हैं। केंद्र सरकार ने 28 मई को सेवा को आधिकारिक रूप से लॉन्च कर दिया है। इसके तहत आवेदक को आधार के लिए पंजीकृत मोबाइल नंबर के साथ आवेदन करना होगा और वैरिफिकेशन होने के तत्काल बाद ई-पैन नंबर जारी कर दिया जाएगा। यह सुविधा निशुल्क है और पूरी तरह से पेपरलेस है। इसके अलावा आप एनएसडीएल के 17,209 केंद्रों के जरिए भी पैन कार्ड बनवा सकते हैं। एनएसडीएल देशभर में फैले 4142 केंद्रों के जरिए ई-टीडीएस और ई-टीसीएस की सुविधा उपलब्ध कराता है।