अध्यक्ष पद के चुनाव की नामांकन प्रक्रिया अगले हफ्ते से शुरू हो सकती है, इंग्लैंड के कोलिन ग्रेव्स और बीसीसीआई अध्यक्ष गांगुली दावेदार

  • अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) के मौजूदा अध्यक्ष शशांक मनोहर का कार्यकाल मई में खत्म हो चुका
  • इस साल ऑस्ट्रेलिया में 18 अक्टूबर से 15 नवंबर तक होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप पर भी फैसला आना बाकी है

दैनिक भास्कर

Jun 26, 2020, 11:09 AM IST

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) की गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बोर्ड मीटिंग हुई। इसमें अध्यक्ष पद के चुनाव की नामांकन प्रक्रिया को लेकर चर्चा की गई, लेकिन कोई सहमति नहीं बन सकी। आईसीसी ने उम्मीद जताई है कि अगले हफ्ते होने वाली बैठक के बाद नामांकन प्रक्रिया शुरू की जा सकती है।

आईसीसी के मौजूदा अध्यक्ष शशांक मनोहर का कार्यकाल मई में ही खत्म हो चुका है। वे अपना कार्यकाल नहीं बढ़ाना चाहते हैं। आईसीसी बोर्ड ने इस बात पर चर्चा की कि नए अध्यक्ष के लिए चुनाव कराया जाए या फिर चयन किया जाए।

चुनाव प्रक्रिया पर सभी सदस्यों की सहमति जरूरी
आईसीसी बोर्ड के एक सदस्य ने कहा, ‘‘मीटिंग में चुनाव को लेकर बातचीत हुई। मुझे विश्वास है कि अगले हफ्ते तक नामांकन प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। अभी कई मामलों पर सभी की सहमति बाकी है और उम्मीद है कि वह अगले सप्ताह बन जाएगी।’’

नए अध्यक्ष पद के लिए कोलिन ग्रेव्स का नाम सबसे आगे
आईसीसी के नए अध्यक्ष पद के लिए इंग्लैंड बोर्ड के मौजूदा चेयरमैन कोलिन ग्रेव्स का नाम सबसे आगे है। साथ ही बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली की भी मजबूत दावेदारी मानी जा रही है। हालांकि, बीसीसीआई पहले ही साफ कर चुका है कि गांगुली आईसीसी अध्यक्ष पद के लिए आवेदन करने के मूड में हैं। वहीं, खबर है कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के चेयरमैन एहसान मनी भी दावेदारी पेश कर सकते हैं, लेकिन बीसीसीआई सपोर्ट नहीं करेगी। बीसीसीआई का मानना है कि यदि मामला पेचिदा होता है, तो गांगुली भी अपनी दावेदारी पेश कर सकते हैं।

आईसीसी चेयरमैन के लिए गांगुली भी उम्मीदवारी पेश कर सकते हैं
पिछले हफ्ते ही एक सीनियर बीसीसीआई अधिकारी ने कहा था, ‘‘मुझे लगता है कि मनोहर चेयरमैन का पद छोड़ने वाले नहीं हैं। वे कार्यकाल बढ़ाने की कोशिश करेंगे। इंग्लैंड बोर्ड के अध्यक्ष कोलिन ग्रेव्स अब भी पद की दौड़ में सबसे आगे हैं। यदि सौरभ गांगुली उम्मीदवार नहीं होते हैं, तो बीसीसीआई भी ग्रेव्स को सपोर्ट करेगी। यदि सर्वसम्मति से फैसला नहीं होता है, तो फिर गांगुली भी नामांकन करेंगे और लड़ाई रोमांचक होगी।’’

टी-20 वर्ल्ड कप पर फैसले का बीसीसीआई को इंतजार
इस साल ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप कोरोना के कारण टलेगा या नहीं, इसको लेकर भी आईसीसी को फैसला करना है। टूर्नामेंट 18 अक्टूबर से 15 नवंबर तक होना है। बीसीसीआई भी इस फैसले का बेसब्री से इंतजार कर रहा है। यदि वर्ल्ड कप टलता है, तो बीसीसीआई उसकी जगह इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) कराने पर विचार कर रहा है। फिलहाल, 29 मार्च से होने वाला आईपीएल वायरस के कारण अनिश्चितकाल के लिए पहले ही टाला जा चुका है।

2016 में पहली बार चुने गए थे
आईसीसी के पहले स्वतंत्र अध्यक्ष के रूप में मनोहर का चयन मई 2016 में हुआ था। इसके बाद मार्च 2017 में उन्होंने निजी कारणों से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि 2018 में उन्हें 2 साल के कार्यकाल के लिए अध्यक्ष पद पर फिर से चुना गया था।

मनोहर बीसीसीआई को कई बार नाराज कर चुके
आईसीसी में मनोहर के कार्यकाल के दौरान कुछ ऐसे फैसले भी लिए गए, जिनकी वजह से बीसीसीआई नाराज हुआ है। हाल ही में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के अर्ल एडिंग्स के नेतृत्व में एक कार्यसमिति का गठन किया गया, जिसमें भारत का कोई प्रतिनिधि नहीं था। इस बात ने बीसीसीआई अधिकारियों को हैरान कर दिया था।

नागपुर के रहने वाले वकील मनोहर और बीसीसीआई कई मामलों को लेकर आमने-सामने आ चुके हैं। मनोहर के पूर्व बीसीसीआई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन से रिश्ते ठीक नहीं थे। इसी कारण यह विवाद अब तक चला आ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *